images (24)

मुक्तक (१ )

images (24)
१।
प्यार जब से मिला खिल कमल हो गए

नैन तुम से मिले फिर सजल हो गए

थे अधूरे बहुत हम तुम्हारे बिना

तुमसे मिलकर सनम हम गजल हो गये

२।

रिश्ता हमारा था पुराना याद कर

जब प्यार का गूंजा तराना याद कर

अब तक मिलन की याद से गुलज़ार दिल

भूला हुआ प्यारा जमाना याद कर

३।
दिलों से दूर रिश्तों का कभी मतलब नहीं होता

मुहब्बत का सुनो कोई  कभी मजहब नहीं होता

कभी तो हार पाकर भी ख़ुशी मिलती बहुत हमको

हमेशा जीतने को ही यहाँ ये सब नहीं होता

डॉ अर्चना गुप्ता 

4 Comments

  • Amit Agarwal commented on August 13, 2014 Reply

    Bahut sunder…bhaavpoorna!
    “थे अधूरे बहुत हम तुम्हारे बिना

    तुमसे मिलकर सनम हम गजल हो गये”…kyaa baat hai!

  • yogi saraswat commented on August 13, 2014 Reply

    रिश्ता हमारा था पुराना याद कर

    जब प्यार का गूंजा तराना याद कर

    अब तक मिलन की याद से गुलज़ार दिल

    भूला हुआ प्यारा जमाना याद कर
    बढ़िया ,खूबसूरत शब्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *