429813712_5619932ff0

हम और तुम

429813712_5619932ff0
चांदनी रात में

तुम कहीं हम कहीं
पर रुपहली चांदनी
दोनों के पास वही

रिमझिम बरसात में
हम दोनों साथ नहीं
पहले बरसात की खुशबू
दोनों के पास वही

इन गहरी तन्हाइयों में
मन भटके चाहे भी कहीं
पर यादों का समुंदर
दोनों के पास वही

दुनिया की भूल भुलैया में
छूटा हमारा हाथ कहीं
फिर मिलने के सरगोशी

दोनों के पास वही

फिर इस जन्म में
हम मिले ना मिले कभी
पर वो प्यार हमारा
दोनों के पास वही

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Comments

  • Dr.Mamta Singh commented on March 28, 2014 Reply

    Pyar aur dosti ki gahrai hai Isme.
    Very nice. I’ll

    • Dr. Archana Gupta commented on March 28, 2014 Reply

      धन्यवाद् सखी। आपके इन्ही शब्दों से हमें प्रोत्साहन मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *