images (7)

मुक्तक (57 )

          (169 ) चाँद तुझको मान तेरी चाँदनी में झूम लूँ या तुझे सूरज समझ कर धूप बनकर घूम लूँ मिट गया तम ज़िन्दगी का फूल खुशिओं के खिले मन करे भर कर हथेली में तुझेRead more…

images (6)

मुक्तक (56 )

          (166 ) नफरतों को छोड़कर बस प्यार करना चाहिए यदि मिले कोई दुखी संताप हरना चाहिए ज़िन्दगी है चार दिन की ध्यान ये रखना सदा सिर्फ अपने फर्ज पर हर वक्त मरना चाहिए (167 )Read more…

images (19)

मुक्तक (53 )

(157 ) वक़्त कहने को’ अपना गुजरता रहा है रेत सा हाथ से ये खिसकता रहा है देख पाते नहीं पर नजर में हैं’ उसके हर घड़ी वक्त हमको परखता रहा है (158 ) स्वप्न सजाकर आँखों में फिर आजRead more…

images (18)

मुक्तक (52 )

(154 ) आप नहीं साथ मगर दर्द लगा खूब गले वक़्त नहीं आज मिला छोड़ सभी साथ चले भूल गये आज सभी कौन बने मीत यहाँ आस अभी शेष बची दूर कहीं दीप जले (155 ) किसी के प्यार मेंRead more…

images (17)

मुक्तक (51)

(151 ) आओ सूरज – चंदा को रंगीन बनायें हम फूल ख़ुशी के इस जग में अब खूब खिलायें हम इक दूजे सँग मिलकर सब खेलें होली होली आओ मन से मन के टूटे तार मिलायें हम (152 ) रंगीनRead more…

images (10)

मुक्तक (50 )

(148 ) दूर जाने का तुम्हें हमसे बहाना मिल गया आँसुओं को आँख में फिर से ठिकाना मिल गया तुम समझ पाये नहीं दिल ने बताया भी कहाँ हम अकेले ही रहे तुमको जमाना मिल गया (149 ) उलझनों मेंRead more…