images

मुक्तक (40 )

(118 ) जुल्मी घटा घिरी है कितना हमें डराये अब आँख से हमारी सावन बरस न जाये नित रोज ही बहाने करते नये नये तुम हम प्यार ये तुम्हारा बिल्कुल समझ न पाये (119 ) बस याद हमको आपकी नादानियाँRead more…

download

मुक्तक (39 )

(115 ) कहने को तो झंडे का सत्कार किया करते हो तेरा मेरा कहकर फिर तकरार किया करते हो सतरंगी दुनियाँ में देखो सारे रंग सुनहरे केवल अपने रंगों से क्यों प्यार किया करते हो (116 ) मेरे भारत काRead more…

download (2)

मुक्तक (38 )

(112 ) झुर्रियां  अब बे हिसाब बन गई मोहब्बतों की किताब बन गईं याद माँ की आ रही है  देखकर पाखुरी खिल खिल गुलाब  बन गईं (113 ) गुनगुनी धूप का हो रहा भास है दूर होगी गलन अब यहीRead more…

download (1)

मुक्तक (37 )

(109 ) बीता वक़्त हँसाता है बीता वक़्त रुलाता है प्यारी सी  यादें बनकर जीवन भर तड़पाता है (110 ) चाँद सितारों में बात वही सावन की  भी बरसात वही बीता वक्त हुआ बेगाना पर यादों की सौगात वही (111Read more…

images (9)

मुक्तक (36 )

(106 ) मीत  होकर भी नहीं स्वीकार करते हो क्यों हमारे प्यार का  व्यापार करते हो हम समझ पाये नहीं ये आज तक साथी क्यों भुलाने को हमें लाचार करते हो (107 ) रूप कैसे है दिखाती ज़िन्दगी भी खिलखिलातीRead more…

images (8)

मुक्तक (35 )

(१०३) आपके बन कर रहेंगे देख लेना आपके मन की कहेंगे देख लेना प्यार इतना आपसे हमने किया है दर्द भी हंसकर सहेंगे देख लेना (104 ) चाँद ये जब चाँदनी को प्यार करता है पूर्णमासी को मिलन सिंगार करताRead more…

images (7)

मुक्तक (34 )

(100) सुनो दर्द में मुस्कुराने लगे हम गजल तो कभी -गीत गाने लगे हम नया साल आया लिये आज खुशियाँ तुम्हें पा प्रिये खिलखिलाने लगे हम (101) नया साल आया चमन को सजालो जो रूठे हुये हैं उन्हें तुम मनालोRead more…

download (1)

कुण्डलिनी छंद (3 )

(7) जल में जब नौका रहे, सँभल सके  हर कोय जल यदि नौका में रहे , बचना मुश्किल होय बचना मुश्किल होय ,यही संतों की बाणी कभी न खोना होश ,काम की बड़े जवानी (8) त्रेता में सब राम थेRead more…

images (6)

मुक्तक (33 )

(97 ) दर्द में हम मुस्कुराना जानते हैं बन शमा खुद को जलाना जानते हैं लाख दुश्मन हो भले सारा ज़माना प्यार पर हम जां लुटाना जानते है (98 ) तुम्हे पलकों पर मैं बिठाऊँगा हथेली पर सरसों उगाऊँगा मिलोRead more…