श्रद्धा और आनंद से परिपूर्ण एक यात्रा

घूमना मुझे शुरू से ही अच्छा लगता है । और छुट्टियों में प्रोग्राम भी बनाते हैं । पर एक सपना रहा कि कभी बद्रीनाथ केदारनाथ जी के लिए प्लान करूँ ।एक तरफ नदी , एक तरफ पहाड़, पहाड़ों से फूटते झरने, बड़े बड़े पत्थर, ग्लेशियर, कल कल की पानी की आवाज , ये सब सोचकर ही रोमांच सा हो जाता है । इसलिए इस बार प्लान कर ही लिया कि बद्रीनात केदारनाथ जाना है ।
इसके लिए इंनोवा बुक की है 7-8 दिन के लिए ।घर से सीधे हरिद्वार जाएंगे ।वहां हर की पैड़ी पर स्नान करके मनसा देवी और चण्डी देवी के दर्शन करेंगे । शाम की आरती देखकर रात को वहीँ रूककर सुबह बदरीनाथ के लिए रवाना होंगे ।Read more…

वास्तविक साथ

सुबह का ये एक घंटा ऐसा होता था जब न तो कोई फ़ोन होता था न नेट न ऐसी न बिस्तर ।बस साथ था लोगों का और प्रकृति का । और जिस साथ से हमें सुकून मिलता है वही होता है वास्तविक साथ।Read more…

morning-walk-by-terrill-welch-2012_09_15-375

खूबसूरत ज़िन्दगी की खुशनुमा सुबह

ज़िंदगी एक ऐसा सफर है जहां तरह तरह के अनुभव रोज ही होते रहते है। कभी ज़िंदगी बहुत खुशनुमा लगती है तो कभी ग़मों से बोझिल सी लगती है। अक्सर यही होता है कि हम दुःख के समय में नकारात्मकता से भर जाते है। हर चीज़ हमें ख़राब ही लगती है। ऐसे में बहुत सी घटनाएँ ऐसी दिख जाती है जो हमारे अंदर उत्साह भर देती हैंRead more…

friendship

दोस्तों के साथ कुछ अनमोल पल

जो क्षण हम जी रहे होते हैं वो उस समय हमारे लिए अत्यंत साधारण होते हैं पर वही क्षण विगत होते ही हमारे लिए असाधारण बन जाते हैं। और यही प्रक्रिया सतत चलती रहती है। इसी तरह जीवन भी व्यतीत होता चला जाता है। जो खुद बच्चे होते हैं वो वक़्त के साथ साथ खुद माता पिता बन जाते हैं और और अपने बच्चों के बचपन में अपना बचपन जी लेते हैं।Read more…

Image Source Flickr here: https://www.flickr.com/photos/stuant63/3443129398/

और उड़ने को आसमान मिल गया

सुना था ज़िंदगी कभी खत्म नही होती। हमेशा अवसर देती रहती है। पर तब मुझे ये सब बातें खोखली सी लगती थी जब मैं अपनी जिम्मेदारियों से निवृत हो खाली खड़ी थी। उम्र मेरे हाथ से अपना हाथ छुड़ा चुकी थी। । एक लड़की का तो पूरा जीवन हालातों के साथ समायोजन में ही निकल जाता है।Read more…

pakiatani-child1

मुझे मनुष्य नहीं कुत्ता बनाना

  सुबह की सैर भी  कमाल की होती है।  सब ओर खुशनुमा सा वातावरण।  सूरज की तलाश मे नया २ जन्म लेता सवेरा  उसकी किरणों को अपनी बाँहों मे लेने को आतुर सा। अंगड़ाई सी लेते अभी अभी सोकर उठेंRead more…